Lalu Yadav की बेटी का विवादित बयान, जन्म प्रमाणपत्र में पिता का नाम बदलवाओ “मैं हूं मोदी का परिवार”

सिर्फ कह देने से परिवार नहीं होता है
आपको डॉक्यूमेंट में लिखवाना पड़ता है कि
हमारे माता का नाम यह है हमारे पिता का
नाम यह है अगर हम कह दिए तो ऐसे थोड़ी कोई
परिवार बन जाता है नमस्कार मैं श्वेता और

आप देख रहे हैं न्यूज़ फाउंडेशन इन दिनों
पूरे देश की राजनीति में परिवार की
राजनीति चल रही है राज सुप्रीमो लालू
प्रसाद यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

को लेकर बड़ा बयान दिया उन्होंने कहा कि
नरेंद्र मोदी का कोई परिवार ही नहीं है
यहां तक कि कह दिया कि नरेंद्र मोदी हिंदू
धर्म को मानते ही नहीं है वह हिंदू है ही

नहीं अगर वह हिंदू होते तो उनकी माता श्री
के देहांत के बाद वह अपना सर जरूर मुड़वा
दे लेकिन नरेंद्र मोदी ने सर नहीं मुड़वा
है अब यह परिवार शब्द राजनीति का हिस्सा
बन गया एक तरफ जहां बीजेपी के तमाम जितने
भी दिग्गज नेता हैं वह सब अपने बायो को

चेंज कर दिए हैं और अपने नाम के बाद मोदी
का परिवार जोड़ना शुरू कर दिए हैं फिर वह
जेपी नड्डा हो या फिर सम्राट चौधरी विजय
कुमार सिन्हा हो या फिर अमित शाह हो हर
कोई मोदी का परिवार बन गया है और अब इस
मोदी के परिवार वाले बायो पर रोहिणी

आचार्य ने ट्वीट करके जोरदार हमला किया है
रोहिणी आचार्य लिखती है कि बोल देने से
कोई परिवार नहीं बन जाता डॉक्यूमेंट में

है कि आपके पिता का नाम यह है आपकी माता
का नाम यह है तब जाके कोई परिवार बनता है
ऐसे जहां तहां लिख देने से कोई किसी का
परिवार नहीं हो जाता हम आपको रोहिणी
आचार्य के वो ट्वीट को दिखाते हैं आप
हमारे स्क्रीन पे रोहिणी आचार्य के वो

ट्वीट को देख रहे हैं उन्होंने साफ-साफ
लिखा है कि सिर्फ कहने सोशल मीडिया पर
लिखने से नहीं होगा कि हम हैं फलाने अमुक
के परिवार जन्म और प्रमाण पत्र की में

पिता के नाम की जगह करवाना लिखवाना होगा
तो साफ-साफ रोहिणी आचार्य ने कहीं ना कहीं
यह सारे नेताओं को यह कह दिया है कि अगर
आप नरेंद्र मोदी को अपना परिवार मानते हैं

तो अपने प्रमाण पत्र में पिता की जगह उनका
नाम लिखवा लीजिए तब जाके ना आपके वह
परिवार बनेंगे एक तरफ जहां बिहार में
अराजक की महारैली हुई और इस महारैली में
राहुल गांधी अखिलेश यादव तेजस्वी यादव राज
सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव एक मंच पे
महागठबंधन के तमाम नेता दिखे और अब इसके
बाद जब से बात शुरू हो गई परिवार को लेकर

तो राजनीति और भी ज्यादा खींचती हुई नजर आ
रही है क्योंकि राजा सुप्रीमो लालू प्रसाद
यादव ने परिवारवाद को लेकर प्रधानमंत्री
नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी की थी उन्होंने
कहा कि आते हैं परिवारवाद पर बोलकर चले

जाते हैं लेकिन जरा हमें यह बताइए कि वो
उनके परिवार के बारे में कौन बोलेगा जब
उनका कोई परिवार ही नहीं है प्रधान
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कोई परिवार

नहीं है यहां तक कि वह हिंदू धर्म के भी
नहीं है वह हिंदू धर्म को मानते भी नहीं
है क्योंकि अगर वह हिंदू धर्म को मानते तो
वह अपना सर जरूर मुड़वा अपनी माता श्री के
देहांत पे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया

है और जब से राजा सुप्रीमो लालू प्रसाद
यादव ने परिवार को लेकर इस तरह के शब्दों
का प्रयोग किया है तब से राजनीति एक अलग
मोड़ प चली गई है राजनीति इस मोड़ पर चली
गई है कि अब पूरी बीजेपी यहां तक कि 140

करोड़ देशवासी नरेंद्र मोदी के परिवार हो
गए हैं अब देखना होगा कि 2024 के लोकसभा
चुनाव में यह परिवारवाद शब्द नरेंद्र मोदी
के सहयोग में काम देता है या फिर इसके बाद
कुछ और नया खेला देखने को मिलता है फिलहाल
के लिए इस खबर में इतना
ही

 

Leave a Comment