Ram Mandir को करोड़ों का दान देने वाले Govind Dholakia को PM Modi ने भेजा Rajya Sabha | वनइंडिया

हमारे सिलेक्शन किया है नरेंद्र भाई ने तो
उनको देख के हमने राज्यसभा में जाने का तय
किया और आज फॉम भी भरा है यह है गुजरात के
हीरा कारोबारी गोविंद ढोलकिया यह वही
गोविंद ढोलकिया हैं जो राम मंदिर में चंदा

देकर सुर्खियों में आए थे क्योंकि ढोलकिया
ने राम मंदिर के लिए 11 करोड़ रुपए का

चंदा जो दिया था तो एक बार फिर गुजरात का
यह हीरा कारोबारी सुर्खियों में है जी हां
दरअसल गोविंद ढोलकिया को बीजेपी राज्यसभा
भेज रही है जानकारी के मुताबिक बीजेपी ने
गुजरात में खाली हुई राज्यसभा की सीटों के

लिए गोविंद ढोलकिया को उम्मीदवार बनाया है
विधानसभा में बीजेपी के संख्या बल को
देखते हुए राज्यसभा चुनावों को औपचारिकता
माना जा रहा है पार्टी के चारों

उम्मीदवारों का निर्विरोध निर्वाचन तय
माना जा रहा है तोए राज्यसभा के लिए
नामांकन दाखिल करने के बाद हीरा कारोबारी
गोविंद ढोलकिया ने कहा कि मैं किसान
परिवार से हूं और अब देश के कल्याण के लिए
काम करूंगा आपको बता दें डायमंड का बिजनेस

करने वाले गोविंद ढोलकिया सूरत से हैं वह
यहां गुजरात के कई सामाजिक संस्थाओं से
जुड़े हैं गोविंद भाई ढोलकिया ने कहा कि
उनका नाम राज्यसभा के लिए तय होने की

जानकारी गृह मंत्री अमित शाह ने दी थी
गोविंद भाई ने कहा कि उन्होंने कभी सोचा
नहीं था कि वह राजनीति में या राज्यसभा
में जाएंगे अमित शाह ने बताया था कि
उन्होंने और न भाई मोदी ने राज्यसभा भेजने

के लिए उनका नाम तय किया है भा ऐसा है कि
जब हमारी सिलेक्शन किया है नरेंद्र भाई ने
तो उनको देख के हमने राज्यसभा में जाने का
तय किया और आज फम भी भरा है तो उनके साथ
काम करने का जितना भी गुजरात का राष्ट्र

का और अपना पूरा समाज का जैसे अच्छा होगा
ऐसे हम सब लोग काम करेंगे 7 नवंबर 1947 को
ग्राम दुदाना में जन्मे गोविंद ढोलकिया
काका के नाम से मशहूर है उन्हें सूरत को

डायमंड कैपिटल बनाने का श्रेय भी दिया
जाता है वह श्री राम कृष्ण एक्सपोर्ट हीरा
कंपनी के मालिक हैं उन्होंने 1964 में
सूरत से करियर शुरू किया था शुरुआत में
हीरे की कटाई और पॉलिशिंग पर काम करते थे

कुछ सालों बाद उन्होंने एक और दो उस के
स्वतंत्र रूप से एक साथ काम करने का फैसला
किया इसके बाद श्री रामकृष्ण एक्सपोर्ट

कंपनी बनाई कच्चे हीरे के व्यापारी हीरा
भाई वाड़ीवाला के साथ कारोबार शुरू किया
पॉलिश करने के बाद कच्चे हीरे वजन के
हिसाब से 34 प्र तक दिखाई देते हैं बताया

जाता है कि जीरो से करोड़ों का सफर तय
करने वाले गोविंद ढोलकिया ने बिजनेस करने
के लिए ₹10 उधार लिए थे इसके बाद उन्होंने
हीरे के कारोबार में आने के बाद पीछे
मुड़कर कभी नहीं देखा गोविंद ढोलकिया

गुजरात के अमरेली जिले के रहने वाले हैं
उन्होंने अपने पत्र गांव दुधाल में करीब
850 परिवारों को सोलर पैनल ू टॉप गिफ्ट
किए हैं इसके साथ द दला देश का पहला ऐसा
गांव बन गया है जो बिना किसी सरकारी
सब्सिडी के 100 प्रतिशत और ऊर्जा से

संचालित होगा किसान परिवार में जन्मे
गोविंद ढोलकिया के परिवार में सात भाई बहन
है फिलहाल इस खबर में बस इतना ही अपडेट्स
के लिए बने रहिए वन इंडिया हिंदी के
साथ

Leave a Comment